Front End और Back End क्या होता है?

नमस्ते दोस्तों! अगर आप इस इंटरनेट की दुनिया मे कंप्युटर जैसी चीजों मे रुचि रखते है और खासकर जब आप कंप्युटर प्रोग्रामिंग मे रुचि रखते है तब आपने Front End और Back End का नाम तो अवश्य सुना होगा क्योंकि यह प्रोग्राम के दो महत्वपूर्ण भाग होते है जिसे सुनकर आपके मन मे Front End और Back End क्या होता है? यह सवाल अवश्य आया होगा।

शायद आप इसी वजह से यहाँ तक आए है, आपको बता दे की कंप्युटर प्रोग्रामिंग की इस दुनिया मे Front End और Back End यह वेबसाइटस्, Applications के दो महत्वपूर्ण भाग होते है, अगर आप प्रोग्रामिंग को सीखना चाहते है या फिर इंटरनेट के क्षेत्र मे आगे बढ़ना चाहते है तो इसके बारे मे हमें विस्तार से जानने की आवश्यकता है।

प्रोग्रामिंग एक ऐसा क्षेत्र है जहां पर हमें सीखते रहना पड़ता है इसमे ढेर सारे अलग अलग प्रकार के Concepts जैसे Data Structure, Algorithm इत्यादि मौजूद होते है, यहाँ पर अलग अलग प्रोग्राम के अलग अलग भाग मौजूद होते है इसी तरह प्रोग्रामिंग के दो महत्वपूर्ण भाग होते है Front End और Back End, दोनों बेहद ही जरूरी होते है।

Front End वह भाग होता है जिसमे की एक यूजर Interact होता है और उसी तरह Back End प्रोग्राम का वह भाग होता है जो की यूजर को दिखाई नहीं देता है, शायद अब आप इन दोनों को एक निम्न स्तर पर समझ चुके होंगे। तो चलिए अब हम Front End और Back End क्या है? इसे विस्तार से जानने और समझने की शुरुआत करते है।

Front End क्या होता है?

जैसा की हम जानते है Front End और Back End यह एक प्रोग्राम जैसे Website, Application इत्यादि के दो महत्वपूर्ण भाग होते है, जिसमे Front End यह प्रोग्राम का वह भाग होता है जो User के साथ Interact करता है जैसे उदाहरण के लिए हम Facebook जो की एक प्रसिद्ध Social network है जब हम इसकी वेबसाइट पर जाते है तब हमें दिखाई देने वाला सारा Content जैसे Pictures, Menu, Buttons यह सब प्रोग्राम का Front End है।

इसे आसान भाषा मे समझे तो Frond End प्रोग्राम का वह भाग होता है जो की ब्राउजर पर चलता है, इसे हम प्रोग्राम का डिजाइन भी कह सकते है मतलब Front End के तहत यह Decide किया जाता है की प्रोग्राम यूजर को किस तरह दिखाई देगी, जैसे की एक बाइक है जिसमे Gear, Horn, Lights, Sheets यह सब बाइक के Front end होता है जो की यूजर के साथ Interact करता है।

अगर आप प्रोग्रामिंग मे रुचि रखते है तब आपने वेब डेवलपर और वेब डिजाइनर यह दो शब्द अवश्य सुने होंगे तो इसमे जो वेब डिजाइनर होता है वह वेबसाइट मे Menu, Font Style, home page यह सब डिजाइन करता है मतलब एक वेब डिजाइनर Front End का कार्य करता है।

Front End के प्रोग्रामिंग भाषाये

Front End के लिए अलग अलग प्रोग्रामिंग भाषाये बनाई गई है जिसकी मदद से हम Front End Development के कार्य को कर सकते है जो की नीचे दिए गए है –

1. HTML. इसका पुरा नाम Hyper text markup language होता है इसका उपयोग Web Pages मे Videos, Images, Hyper links इत्यादि को जोड़ने के लिए किया जाता है।

2. CSS. इसका पूरा नाम Cascading Style Sheets होता है इसके माध्यम से Web pages को रंग रूप देकर आकर्षक बनाया जाता है।

3. JavaScript. यह एक प्रकार की Client Side Scripting प्रोग्रामिंग भाषा है जो की एक शक्तिशाली प्रोग्रामिंग भाषाओ मे से एक है जिसके माध्यम से Front end मे Multimedia को Manage किया जाता है।

Back End क्या होता है ?

यह प्रोग्राम का वह भाग होता है जिसमे की प्रोग्राम की सभी सामग्री Load होती है, मतलब यह प्रोग्राम का ऐसा भाग होता है जहां पर सभी तरह के Logics, Data स्टोर होते है। Back End ऐसी प्रोग्रामिंग भाषाओ से चलता है जिसका Code Server पर स्टोर होता है एवं Back End के Codes Server पर ही Execute होते है। जैसे की जब हम गूगल पर कुछ सर्च करते है तब हमे अलग अलग सर्च Results दिखाई देते है उन सभी की Processing Back end पर ही होती है।

Back End को आसान भाषा मे समझे तो यह प्रोग्राम का वह भाग होता है जो की ब्राउजर पर नहीं चलता बल्कि Server पर चलता है इसके तहत प्रोग्राम के Processing का कार्य होता है जैसे की जब हम Facebook मे पासवर्ड और मोबाइल नंबर डालकर जब लॉग इन करते है तब इसमे Server का उपयोग होता है।

जब आपने पासवर्ड और मोबाइल नंबर डालकर लॉगिन पर क्लिक किया तब वह Server पर स्टोर Data के साथ Match होता है जिसके बाद ही लॉगिन की प्रक्रिया सफल हो पाती है।

वेबसाइट के Back end पर जो कार्य करता है उसे ही हम वेब डेवलपर कहते है जिसका काम वेबसाइट के Server को Manage करता है। Back End पर कई सारी प्रोग्रामिंग भाषाये Run होती है जैसे Java, JavaScript, SQL, PHP, Ruby इत्यादि जो की Server पर Execute होती है।

यह भी जानिए : ऑब्जेक्ट ओरिएंटेड प्रोग्रामिंग क्या है ?

Back End के प्रोग्रामिंग भाषाये

Back End मे भी विभिन्न प्रकार के अलग अलग प्रोग्रामिंग भाषाओ का इस्तेमाल किया जाता है जिनमे से मुख्य Back End languages नीचे दिए गए है –

1. SQL. यह Back End के लिए बेहद जरूरी प्रोग्रामिंग भाषाओ मे से एक है इसका पूरा नाम Structured Query Language है, इसका उपयोग Database Management के लिए किया जाता है।

2. PHP. यह प्रोग्रामिंग भाषा Back End के लिए बहुत ही शक्तिशाली मानी जाती है इसका पूरा नाम Personal home page होता है लेकिन PHP का मतलब Hyper Text Processer होता है इसका उपयोग User Access को Control करने के लिए, Cookies को Send और Receive करने के लिए, Data collect करने के लिए इत्यादि ाजिसे महत्वपूर्ण कार्यो के लिए किया जाता है।

3. Java. यह एक उच्च स्तर की प्रोग्रामिंग भाषा है जिसका उपयोग Applications, Games इत्यादि मे किया जाता है यह Backend के लिए बेहद उपयोगी मानी जाती है।

4. Python. यह एक स्क्रिप्टिंग भाषा है इसमे हमे Dynamic tag System, Automatic Memory Management जैसे फीचर्स मिलते है जिसकी वजह से इसका इस्तेमाल Back End मे प्रोग्राम Maintenance, Development मे किया जाता है।

5. Ruby. यह एक उच्च स्तर के प्रोग्रामिंग भाषाओ मे से एक है जिसका इस्तेमाल Servers को Build करने के लिए , Data को Process करने के लिए इत्यादि जैसे कार्यों के लिए किया जाता है।

Front End और Back End मे कौन बेहतर है?

अब सवाल यह आता है की Front End और Back End मे कौन बेहतर है, तो आपको बता दे की यह दोनों ही जरूरी होते है क्योंकि यह एक प्रोग्राम के दो भाग है दोनों ही एक दूसरे के बिना कार्य करने मे सक्षम नहीं हो पाते है मतलब Front End के बिना Back End अधूरा है और Back End के बिना Front End अधूरा है इसीलिए दोनों ही बेहद ही जरूरी होते है।

जैसे की गाड़ी होती है जो की इंजन के बिना चल नहीं सकती है और अगर उस गाड़ी के बाहरी भाग नहीं है तब उसमे कोई बैठना पसंद नहीं करेगा, कुछ इसी तरह Front End और Back End होते है, दोनों को Combine कर देने पर उसे Full Stack कहा जाता है और दोनों के Combinations से एक बेहतर प्रोग्राम तैयार हो पाता है।

Front End Developer और Back End Developer कौन होते है?

अगर आप प्रोग्रामिंग मे रुचि रखते है तब आपने Front End Developer और Back End Developer शब्द अवश्य सुन होगा, जिसे सुनकर यह सवाल आता है की ये Front End Developer क्या है और यह Back End Developer क्या है, तो चलिए अब इन्हे हम एक एक कर के समझते है –

1. Front End Developer. यह वह Developers होते है जिन्हे की Front End development के जानकारी होती है जो की किसी भी प्रोग्राम जैसे Website, Application को डिजाइन करता है यह बेहद ही Creative होते है जिसकी वजह से ये आसानी सेप्रोग्राम के UI को User Friendly और को आकर्षक बना पाते है इन्हे CSS, HTML, JavaScript जैसे प्रोग्रामिंग भाषाओ का ज्ञान होता है।

2. Back End Developer. यह वह Developers होते है जिन्हे Back End Development की जानकारी होती है इन्हे Server Side प्रोग्रामिंग भाषा जैसे PHP, SQL, Java, C#, Ruby, Python कि जानकारी होती है यह प्रोग्राम जैसे Website, Application इत्यादि के Sensitive Area जैसे Database, Server इत्यादि को मैनेज करते है।

FAQ’s (अक्सर पूछे जाने वाले सवाल)

तो चलिए अब हम Front End और Back End के बारे मे उच्च अधिकतर और अक्सर पूछे जाने वाले सवालों पर चर्चा करते है।

Front End और Back End Development क्या है?

Back End Development मे प्रोग्राम के Back end वाले भाग जैसे Database, Server इत्यादि को Develop किया जाता है और Front End Development मे प्रोग्राम के Front End वाले भाग UI इत्यादि को Develop किया जाता है।

Front End या फिर Back End सीखना चाहिए?

यह आपके Interested पर depend है, अगर आपको प्रोग्राम के UI, Design इत्यादि को Develop करने मे मजा आता है तब आप Front को सीखिए और अगर आपको प्रोग्राम के Database, server इत्यादि को Develop करने मे मजा आता है तब आप Back end सिख सकते है।

Full Stack Development किसे कहते है?

Full Stack Development Front End और Back End Development का Combination है, मतलब इसके तहत प्रोग्राम के सभी भागों को Develop करना सिखाया जाता है।

निष्कर्ष

अब हमने आप सभी के साथ इस Article के माध्यम से Front End और Back End क्या होता है, इससे संबंधित समस्त जानकारी साझा कर दी है। उम्मीद है की आप सभी लोगों ने इस Article के जरीये Front End और Back End से संबंधित समस्त जानकारी को प्राप्त कर लिया होगा और What is Front End Back End in Hindi इसके बारे मे भी विस्तार से सम्पूर्ण जानकारी को प्राप्त कर लिया होगा।

इस Article को Social Platforms जैसे Facebook, Twitter इत्यादि पर भी अवश्य शेयर कीजिये और अगर आप सभी के मन मे इस Article से संबंधित कोई सुझाव और इंटरनेट से जुड़ा कोई सवाल है तो उसे Comment मे लिखकर हमें जरूर बताएं।

Leave a Comment