ईमेल क्या है, इसकी विशेषताएं – What is Email in Hindi

हर किसी को ईमेल क्या है? यह अवश्य पता होना चाहिए क्योंकि आज आज के समय मे हमें क्या पता कब ईमेल की आवश्यकता पड़ जाएं क्योंकि वर्तमान समय पूरी तरह से डिजिटल हैं जिसकी वजह से हमें कहीं न कहीं ईमेल की आवश्यकता पड़ती ही पड़ती हैं।

जैसे बैंक अकाउंट मे, कॉलेज Admission के लिए आवेदन करते वक्त, किसी को जरूरी दस्तावेज भेजने के लिए, खुद का बिजनेस करने के लिए इत्यादि सारी चीजों के लिए हमें एक ईमेल आइडी की जरूरत पड़ती हैं। आज के समय मे लगभग हर एक मोबाइल यूजर को ईमेल के बारे मे पता होना चाहिए।

इसका कारण हैं की किसी को संपर्क करने के लिए सबसे भरोसेमंद और सुरक्षित साधन ईमेल को ही माना जाता हैं क्योंकि दस साल पहले भेजे हुए ईमेल को हम आज भी सुरक्षित रूप से Access कर सकते हैं व ईमेल सबसे पुराना साधन माना जाता हैं किसी को संपर्क लिए और दस्तावेजों को ऑनलाइन किसी अन्य व्यक्ति के पास भेजने के लिए।

आप यकीन नहीं करेंगे जितने भी Professionals होते हैं वह सभी तरह के Professionals काम के लिए सिर्फ और सिर्फ ईमेल का उपयोग करते हैं, ईमेल पर ही आजकल लाखों करोड़ों की Deal होती हैं तो चलिए अब जानते हैं की Email kya hai और फिर कुछ नया सीखते हैं।

Contents दिखाए

ईमेल क्या है – What is Email in Hindi

आपको यह बता दे की कोई भी पत्र जो इलेक्ट्रॉनिक माध्यम से भेजा गया हो उसे हम ईमेल कहते हैं ईमेल का मतलब इलेक्ट्रॉनिक मेल होता हैं, जिसका आविष्कार रे टॉमलिन्सन जो की एक अमेरिकी प्रोग्रामर हैं उन्होंने 1972 मे दो कंप्युटरो के बीच संदेश भेजकर किया था।

ईमेल एक ऐसा तरीका हैं जिसके माध्यम से हम किसी को मैसेज भेज सकते हैं, फोटो वीडियो Audio इत्यादि चीजे इंटरनेट के माध्यम से भेज सकते हैं, अगर हम इसे आसान भाषा मे समझने की कोशिश करे तो ईमेल एक ऐसा माध्यम हैं जो की इंटरनेट की सहायता से किसी भी अन्य व्यक्ति के साथ Communicate और File sharing के लिए किया जाता हैं।

ईमेल कोई भी पत्र को किसी भी अन्य व्यक्ति के पास इलेक्ट्रॉनिक के माध्यम से भेजने के लिए बेहद ही सुविधाजनक साबित हुआ, क्योंकि इसमे समय का बचत होता था, सुरक्षित था व बिल्कुल मुफ़्त होने की वजह से यह कंप्युटर के माध्यम से पत्र भेजने के लिए बहुत ही कम समय मे प्रसिद्ध भी हो गया।

ईमेल आइडी (Address) क्या होता है?

ईमेल Address यूजर का पता होता हैं जिसके माध्यम से हम किसी यूजर को पहचान कर उसे ईमेल भेज सकते हैं, जिस तरह किसी भी यूजर के मोबाइल मे कॉल करने के लिए हमें उसके मोबाइल नंबर की आवश्यकता होती हैं कुछ उसी प्रकार हमें यूजर को ईमेल करने के लिए ईमेल Address की आवश्यकता पड़ती हैं।

ईमेल Address तीन शब्दों से मिलकर बना होता हैं, उदाहरण के लिए कुछ इस प्रकार समझिए जैसे – Support@techgajju.com यह हमारा ईमेल हैं, जिसमे –

  • Support = यह यूजर नेम हैं।
  • @ = यह एक प्रकार का Symbol होता हैं जिसे AT कहते हैं।
  • techgajju.com = यह डोमेन नेम होता हैं।

कुछ इस प्रकार एक ईमेल Address होता हैं।

ईमेल का इतिहास – History of email

वैसे तो ईमेल की शुरुआत रे टॉमलिन्सन ने की हैं क्योंकि सन् 1972 मे रे टॉमलिन्सन नामक अमेरिकी प्रोग्रामर ने @ का उपयोग करके इंटरनेट के माध्यम से दुनिया का पहला ईमेल एक कंप्युटर से दूसरे कंप्युटर मे भेजा और कुछ इस तरह ईमेल का आविष्कार हुआ।

लेकिन इसके बाद भारतीय अमेरिकी वैज्ञानिक और इंजीनियर वी.ए. शिवा अय्यदुरई ने 1978 मे एक कंप्युटर प्रोग्राम तैयार किया जिसमे हम सभी तरह के फाइल Attach कर के ईमेल भेज सकते थे व साथ मे इसमे Inbox, Outbox के फीचर्स मौजूद थे इसी कंप्युटर प्रोग्राम को आज के समय मे पूरी दुनिया ईमेल के नाम से जानती हैं।

ईमेल की विशेषताएं (Characteristic’s)

वैसे हमने EMail Kya Hai, यह तो समझ ही लिया है लेकिन अब हम ईमेल की समस्त विशेषताओ के बारे मे एक एक कर के जान लेते है, ईमेल की विशेषताएं निम्नलिखित है –

1. तेज गति

ईमेल की सबसे बड़ी खासियत यह है की हम किसी भी व्यक्ति को अगर ईमेल करते है तब हमारा ईमेल प्राप्तकर्ता को तुरंत ही Send हो जाता है जिससे ईमेलकर्ता और प्राप्तकर्ता के लिए समय की कोई पाबंदी नहीं है इसके जरिए हम आसानी से बातचीत कर सकते है।

2. रिकार्ड

हमे हमारे ईमेल पर जितने भी ईमेल प्राप्त होते है एवं जितने भी ईमेल लोगों को भेजते है वे हमेशा के लिए मौजूद रहती है जब तक की उसे हम खुद से मिटा नहीं देते है पुराने से भी पुराना ईमेल जो की मिटाया नहीं गया है उसे भी आप Access कर सकते है।

3. सुरक्षा

ईमेल भौतिक मेल से कई गुणा सुरक्षा तो होता ही है लेकिन यह बाकी ऑनलाइन या डिजिटल Communication एवं डेटा साझाकरण तकनीकों से कई गुणा सुरक्षित होता है इसे गोपनीयता और सुरक्षा को देखकर ही बनाया गया है।

4. फ्री वार्तालाप

ईमेल का इस्तेमाल करके हम फ्री मे ही अन्य लोगों से बातचीत कर सकते है क्योंकि ऐसे काफी सारे Email Providers है जो की फ्री मे ही अपने उपयोगकर्ताओ को ईमेल का Access प्रदान करती है जिसमे आपको एक भी पैसा नहीं लगता है।

5. दस्तावेज भेज सकते है

किसी भी दस्तावेज को सुरक्षित तरीके से एवं बिना गुणवत्ता मे बदलाव के किसी के साथ ऑनलाइन साझा करने के लिए ईमेल सबसे अच्छा विकल्प है इसमे हम किसी भी तरह का दस्तावेज डिजिटल रूप मे बिना गुणवत्ता मे कोई बदलाव के साझा कर सकते है।

6. आसान उपलब्धि

एक समय मे ईमेल केवल कंप्युटर के द्वारा ही भेजा जा सकता था जिस वजह से इससे काफी सारे लोग वंचित रह जाते थे लेकिन आज ईमेल को हम मोबाइल से भी Access कर सकते है और किसी को भी मोबाइल के जरिए ही ईमेल कर सकते है।

ईमेल लेखन का प्रारूप

एक नजर हम ईमेल लेखन के प्रारूप पर भी डालते है ताकि आपको एक अंदाजा हो जाए की ईमेल कैसे लिखा जाता है –

Fromप्रेषक यानि भेजने वाले का ईमेल पता
Toप्राप्तकर्ता का ईमेल पता
Subjectईमेल का विषय
CCCarbon Copy
BCCBlind Carbon Copy
Attachmentईमेल मे जोड़े जाने वाली फाइल जैसे पीडीएफ़, जेपीजी इत्यादि
Compose Emailकी जाने वाले ईमेल को यहाँ लिखे
अभिवादनयहाँ पर अपने अनुसार अपना शब्द लिखे जैसे प्रिय, मित्र इत्यादि
हस्ताक्षरप्रेषक यानि भेजने वाले का नाम, संकेत आदि

ईमेल के उपयोग – Uses of email

आपको बता दे की ईमेल की उपयोग हमारे दैनिक जीवन मे बहुत महत्वपूर्ण कार्यों के लिए किया जाता हैं, ईमेल के सभी उपयोग नीचे दिए गए हैं।

1. संदेश साझाकरण

ईमेल का उपयोग बहुत अधिक महत्वपूर्ण संदेश को किसी अन्य व्यक्ति के पास इंटरनेट के माध्यम से भेजने के लिए किया जाता हैं।

2. डिजिटल मीडिया साझाकरण

ईमेल का उपयोग Visuals जैसे फोटो, वीडियो, Audio इत्यादि सभी को किसी अन्य व्यक्ति के पास इंटरनेट के माध्यम से भेजने के लिए किया जाता हैं।

3. दस्तावेज साझाकरण

ईमेल का उपयोग जरूरी Document’s जैसे पीडीएफ़ फाइल, प्रोग्राम फाइल्स इत्यादि सभी को किसी अन्य व्यक्ति के पास इंटरनेट के माध्यम से भेजने के लिए किया जाता हैं।

4. सुरक्षा सटीकता

ईमेल का उपयोग हम किसी भी ऐसी बेहद महत्वपूर्ण Documents को सटीकता व सुरक्षा के साथ भेजने के लिए कर सकते हैं ईमेल के माध्यम से भेजे गए मैसेज Lifetime सुरक्षित रहते हैं।

5. टिकट बुकिंग, अकाउंट ओपनिंग

बैंक, स्कूल, कॉलेज, ट्रेन टिकट बुक बुकिंग हवाई जवाज बुकिंग इत्यादि सभी कार्यों के लिए हमें ईमेल Address की जरूरत होती हैं।

ईमेल के नुकसान – Disadvantage of Email

जिस प्रकार ईमेल हमारे लिए बहुत ही फायदेमंद और उपयोगी साबित हुआ हैं उसी तरह ईमेल के कुछ नुकसान भी हैं जो की नीचे लिखे हैं जिनके बारे मे आपको अवश्य जानना चाहिए।

1. सीमित पाठ

अधिक शब्दों का Text के साथ हम ईमेल नहीं कर सकते हैं अर्थात हम ईमेल के द्वारा एक सीमित पाठ को भेज सकते है अधिक पाठ लिखकर हम बिल्कुल भी ईमेल नहीं कर सकते है।

2. तकनीकी ज्ञान की आवश्यकता

फोन कॉल की तरह ईमेल को कोई भी व्यक्ति बड़ी ही आसानी से नहीं कर सकता है बल्कि किसी भी यूजर को ईमेल करने के लिए हमें तकनीकी ज्ञान की जरूरत पड़ती हैं, इस वजह से एक सामान्य यूजर के लिए शुरू मे ईमेल करना मुश्किल होता हैं।

3. स्पैम

ईमेल एक बेहद प्रसिद्ध संपर्क माध्यम होने के कारण स्पैम , प्रमोशन से संबंधित ईमेल एवं काफी सारे अलग अलग तरह के फालतू ईमेल बार बार आते रहते हैं जिससे हम Disturb हो सकते हैं।

4. इंटरनेट की आवश्यकता

बिना इंटरनेट के हम ईमेल नहीं कर सकते हैं, इंटरनेट के माध्यम से ही ईमेल किया जा सकता हैं अगर हम किसी ऐसी जगह पर चले जाते है जहां इंटरनेट मौजूद नहीं है तब हम ईमेल का लाभ बिल्कुल भी नहीं उठाया पाएंगे।

कुछ प्रसिद्ध फ्री ईमेल कंपनी

आज के समय मे अगर आप खुद एक Custom ईमेल आइडी बनाकर किसी को ईमेल करना चाहते हैं तो इसके लिए हमें पैसे देकर Custom ईमेल खरीदना होता हैं, लेकिन कुछ ऐसी फ्री ईमेल कम्पनी हैं जिनकी सेवाओ का उपयोग करके हम फ्री मे ईमेल भेज सकते हैं –

1. जीमेल (Gmail)

यह एक बेहद प्रसिद्ध फ्री ईमेल सर्विस हैं जो की गूगल के द्वारा दिया जाता हैं इसके माध्यम से हमें ईमेल करने के लिए https://mail.google.com/ वेबसाइट पर जाने की आवश्यकता पड़ती हैं।

2. याहू मेल (Yahoo Mail)

यह एक सबसे पुराना और प्रसिद्ध फ्री ईमेल सर्विस हैं जो की Yahoo Provide करता हैं, इसके माध्यम से एमिल करने के लिए https://mail.yahoo.com/ को विज़िट कीजिए।

3. आई क्लाउड मेल (iCloud Mail)

यह भी एक प्रसिद्ध ईमेल सर्वकए हैं जो की Apple Provide करता हैं, iCloud Mail के माध्यम से ईमेल करने के लिए https://www.icloud.com/mail को विज़िट कीजिए।

FAQ’s – (अक्सर पूछे जाने वाले सवाल)

ईमेल के जनक कौन है?

ईमेल के जनक रे टॉमलिन्सन जी हैं। जो की एक अमेरिकी प्रोग्रामर हैं।

ईमेल की स्थापना कब हुई?

ईमेल की स्थापना सन् 1978 मे हुआ।

ईमेल के कितने भाग हैं?

ईमेल के कुल दो भाग हैं यूजर नेम और डोमेन नेम।

निष्कर्ष

अब उम्मीद हैं की आप सभी लोगों को इस लेख के माध्यम से दी गई जानकारी से आपने आज कुछ नया सिखा होगा और यह जान लिया होगा की ईमेल क्या है (What is Email in Hindi) अगर आप सभी लोगों के मन मे ईमेल या फिर इंटरनेट से संबंधित कोई भी सवाल हैं तो आप हमसे नीचे कमेन्ट मे लिखकर पूछ सकते हैं।

इस लेख के माध्यम से दी गई जानकारी को सोशल मीडिया जैसे Facebook, LinkedIn, Twitter इत्यादि पर शेयर कीजिए और यह लेख आपको कैसा लगा कमेन्ट बॉक्स के माध्यम से अवश्य बताएं।

Leave a Comment