वेबसाइट ब्लॉग को रैंक कैसे करें? Google के फर्स्ट पेज मे

अगर आप भी एक ब्लॉगर हैं तो ब्लॉग को रैंक कैसे करें? यह सवाल आपके भी मन मे अवश्य होगा. शुरुआती दिनों मे जब मैंने भी ब्लॉगिंग की शुरुआत की थी तब मेरे भी मन मे यह सवाल बना हुआ था लेकिन आज के समय मे मैंने अपने बहुत सारे ब्लॉग पोस्ट को गूगल के फर्स्ट पेज मे रैंक कर चुका हूँ. अगर आप भी अपने ब्लॉग को गूगल के फर्स्ट मे रैंक करने की चाहत रखते हैं तो इस लेख को पूरा अवश्य पढ़ें।

क्योंकि इसमे मैंने वह सारे Ranking factor’s आप लोगों के साथ साझा किया हैं जो की किसी भी ब्लॉग पोस्ट को गूगल के पेज मे रैंक करने के लिए बहुत ही जरूरी होते हैं। जिस तरह दिन प्रतिदिन Bloggers की संख्या मे वृद्धि होते जा रही हैं लोगों को लगता हैं की उसी तरह ब्लॉगिंग मे Competition बढ़ता जा रहा हैं लेकिन मेरा यह मानना हैं की आज भी गूगल मे पहले पेज पर रैंक करना इतना भी मुश्किल नहीं हैं।

ऐसा मैं इसीलिए मानता हूँ क्योंकि मैंने आज भी ऐसे keywords पर अपने ब्लॉग को रैंक कराया हैं जिस पर Competition अधिक था. यह सिर्फ इस वजह से हो पाया क्योंकि मुझे Google Ranking Factors के बारे मे पता था जिन्हे मैंने उपयोग किया और मेरा भी ब्लॉग Google के फर्स्ट पेज रैंक करने लगा. उदाहरण के तौर पर इस आर्टिकल को देख सकते हैं. “Youtube Channel Grow kaise kare”

  • तो चलिये जानते हैं की ब्लॉग को Google के फर्स्ट पेज पर रैंक कैसे करें ? और इस टेक्नोलॉजी की दुनिया मे कुछ नया सीखते हैं।

ब्लॉग को Google के फर्स्ट पेज पर रैंक करने के लिए क्या न करें

  1. विजिटर्स न खरीदे.
  2. Spam backlink न बनाएं.
  3. ब्लैक Hat SEO का उपयोग न करें.
  4. Keywords stuffing न करें.
  5. गलत जानकारी न दे.
  6. invisible टेक्स्ट न डाले.
  7. hidden links न लगाये.
  8. Large साइज़ वाले इमेज का उपयोग न करे.
  9. Readers के साथ खिलवाड़ न करें.

ब्लॉग को Google के फर्स्ट पेज पर रैंक कैसे करें ?

गूगल एक ऐसा सर्च इंजन हैं जो की पूरा यूजर के behavior और Quality Content पर डिपेंड होता हैं. जिसे समझने मे लोगों को कई वर्ष लग जाते हैं अगर आप भी अपने ब्लॉग को गूगल के फर्स्ट पेज मे रैंक करने के लिए उत्सुक हैं और ब्लॉगिंग को लेकर serious हैं।

तो नीचे बताएं गए ब्लॉग को Google के फर्स्ट पेज रैंक करने के सभी तरीकों ध्यानपूर्वक फॉलो कीजिए और उन सभी तरीकों को एक एक कर के अपने ब्लॉग मे Implement कीजिए।

1. Query solve होनी चाहिए.

जब भी आप अपने ब्लॉग मे पोस्ट लिखे तब इस बात का ध्यान रखे की जिस भी कीवर्ड पर आप आर्टिकल लिख रहे हैं उस कीवर्ड का जो मुख्य Query यानी सवाल हैं उसका जवाब आपके आर्टिकल मे यूजर मिल रहा हैं की नहीं।

अगर आपके ब्लॉग पोस्ट मे जो मुख्य Query हैं उसका solution आपके ब्लॉग पोस्ट की माध्यम से यूजर को अगर नहीं मिल रहा हैं तो चाहे आप कितनी भी कोशिश कर आपका ब्लॉग Permanent कोई भी specific कीवर्ड पर रैंक नहीं कर पाएगा।

ऐसा इसीलिए होता हैं जब कोई भी यूजर आपके ब्लॉग पर आता हैं. तो उसका मुख्य Aim आपके ब्लॉग पोस्ट के माध्यम से अपने सवाल का जवाब ढूँढना होता हैं. जब आपके ब्लॉग मे यूजर की Query solve नहीं होगा तो यूजर इससे satisficed नहीं होगा और कोई दूसरा ब्लॉग पोस्ट को Read करने के लिए किसी अन्य ब्लॉग पर चला जाएगा।

जिससे आपके ब्लॉग का यूजर Experience खराब होगा और बाद मे गूगल आपके ब्लॉग पोस्ट का रैंकिंग नीचे कर देगा और कभी फर्स्ट पेज और फर्स्ट position पर नहीं रैंक करने देगा।

उदा. जैसे की इस ब्लॉग पोस्ट से अगर आपने Blog Ko Google me rank kaise kare यह नहीं सिखा तो जाहीर सी बात हैं की यह ब्लॉग पोस्ट गूगल के फर्स्ट पेज पर रैंक नहीं करेगा।

2. Accuracy के साथ ब्लॉग पोस्ट लिखिए.

गूगल को सटीक यानी Accuracy से लिखी गई ब्लॉग पोस्ट बेहद पसंद हैं क्योंकि इसे खुद experience कर सकते हैं. आप गूगल पर कोई भी कीवर्ड सर्च कीजिए और उस कीवर्ड पर रैंक ब्लॉग पोस्ट को बारीकी के साथ read कीजिए।

उन ब्लॉग पोस्ट मे आपको एक भी शब्दों के लेकर mistakes नहीं मिलेगा और न ही उन ब्लॉग पोस्ट मे कोई गलत जानकारी मिलेगा. सटीकता एक ऐसा चीज हैं जो की गूगल के boats देखते हैं और उन्ही के base पर किसी भी ब्लॉग या ब्लॉग पोस्ट को फर्स्ट पेज पर लाता है।

इसीलिए जब भी आप ब्लॉग पोस्ट लिखे तो उसे दोबारा गहराई से Read कीजिए और अगर शब्दों मे कोई Mistake मिल जाता हैं या फिर ऐसा लगता हैं की कहीं पर गलत जानकारी लिखा हैं तो उसे सुधारिए और पोस्ट को अपडेट कीजिए. इससे वाकई मे आपको अपने ब्लॉग या ब्लॉग पोस्ट को गूगल के फर्स्ट पेज मे रैंक करने मे सहायता मिलेगी।

3. Landing Page की स्पीड को बढ़ाइए.

Landing Pages वह पेज होते हैं जिनके माध्यम से यूजर हमारे ब्लॉग पर enter करते हैं जैसे की जब कोई हमारा ब्लॉग पोस्ट किसी यूजर की नजर मे आता हैं और अगर यूजर को वह ब्लॉग पोस्ट का टाइटल interesting लगता हैं तो वह उस पर क्लिक करता हैं. फिर वह उस ब्लॉग पोस्ट पर पहुँच जाता हैं यही landing पेज कहलाता है।

आप यकीन नहीं करेंगे की Landing Page की स्पीड बहुत ही ज्यादा matter करता हैं ब्लॉग पोस्ट को फर्स्ट पेज पर रैंक कराने के लिए. क्योंकि जब भी कोई यूजर आपके ब्लॉग पर पर आता हैं तो वह Landing Page पर ही आता हैं. ऐसे मे अगर Landing Page की स्पीड बहुत ही ज्यादा slow हैं तो ऐसे मे यूजर irritate हो जाएगा और वह आपके ब्लॉग पोस्ट को read करने के बजाय किसी और ब्लॉग पोस्ट मे चला जाएगा।

इसीलिए आज के समय मे Landing Page की स्पीड हमें increase करनी चाहिए ताकि यूजर irritate न हो। Landing Page की स्पीड बढ़ाने के लिए 1.lite speed cache और WP Rocket plugin का इस्तेमाल कर सकते हैं अन्यथा AMP सेटअप कर सकते हैं यह आपके वेबसाइट की स्पीड को 50% प्रतिशत तक बढ़ा देते हैं।

4. SEO plugin का इस्तेमाल कीजिए

आज के समय मे लगभग हर एक ब्लॉगर जो WordPress का इस्तेमाल करता हैं वह SEO plugin का इस्तेमाल अवश्य करता हैं क्योंकि SEO plugin आपके ब्लॉग पोस्ट मे हो रहे ऐसी छोटी बड़ी mistakes जो SEO से संबंधित हैं उन्हे यह बताता हैं और उन छोटी बढ़ी गलतियों को कैसे सुधारा जाएं इसका भी solution provide करता हैं जो की SEO plugin का सबसे बड़ा benefit हैं।

वर्तमान मे WordPress मे दो SEO plugin बेहद प्रसिद्ध हैं 1. Yoast SEO plugin 2. Rank math यह दोनों plugin ब्लॉग को रैंक करवाने के लिए बेहद सहायक होता हैं. यह दोनों plugin SEO से संबंधित छोटे बड़े काम जैसे Robot.txt Generate करना इत्यादि काम यह खुद से Automatic कर देता हैं जिससे हमें शुरुआती समय मे कुछ परेशानीयो का सामना करना नहीं पड़ता हैं और वाकई मे ब्लॉग को रैंक करने मे फायदा होता हैं.

अगर आप एक नए ब्लॉगर हैं तो आप rank math की जगह yoast plugin को इस्तेमाल करे इसका user interface बहुत ही सिम्पल हैं और अगर Blogger.com का इस्तेमाल करते हैं तो आपको SEO plugin की जरूरत नहीं हैं।

5. Keyword रिसर्च कीजिए.

आज के समय मे हमें अगर अपने ब्लॉग को गूगल मे रैंक करना हैं तो हमें Keyword रिसर्च अवश्य करनी चाहिए क्योंकि इससे हमारा ब्लॉग किसी कीवर्ड पर जल्दी रैंक करता हैं ऐसा इसीलिए होता हैं।

क्योंकि जब हम कीवर्ड रिसर्च करते हैं और उससे रिलटेड सभी कीवर्ड को अपने ब्लॉग पोस्ट मे implement करते हैं तो इससे हमारा ब्लॉग मुख्य कीवर्ड मे रैंक करने के अलावा बाकी रिलेटेड कीवर्ड पर भी धीरे धीरे रैंक करता हैं।

जिससे फर्स्ट पेज पर रैंक करने के चांस बढ़ जाता हैं और ब्लॉग पर ट्रैफिक भी अधिक आता हैं. कभी भी ब्लॉग पोस्ट लिखने से पहले कीवर्ड रिसर्च अवश्य करे एवं इससे एक और फायदा होता हैं की हमें कीवर्ड का सर्च volume पता चल जाता हैं।

जिससे यह अंदाजा लगा सकते हैं की उस कीवर्ड पर हमें पोस्ट लिखना चाहिए या नहीं. इसीलिए कीवर्ड रिसर्च अवश्य करे इसके लिए Google keyword planner, Ahrufs, semrush जैसे टूल का इस्तेमाल कर सकते हैं।

6. Internal Linking का Structure बनाइये.

शायद हर एक ब्लॉगर को Internal Linking के बारे मे पता है अगर नहीं पता हैं तो बता दे Internal Linking के माध्यम से हम अपने ब्लॉग के एक पोस्ट को दूसरे पोस्ट से लिंक करते हैं यही सामान्य भाषा मे Internal Linking कहलाता हैं. लेकिन Internal Linking करने के अलग अलग तरीके होते हैं।

अगर हम सही तरीके से Internal Linking करते हैं तो इससे ब्लॉग पोस्ट फर्स्ट पेज पर रैंक करने की संभावना कॉफी हद तक बढ़ अधिक हो जाती हैं।

अगर हम Internal Linking का एक structure बनाते हैं तो अगर ब्लॉग पोस्ट सही तरीके से लिखा गया हो तो इससे ब्लॉग पोस्ट तो definitely रैंक करता ही हैं और साथ मे एक ऐसा structure बन जाता हैं जो आपके वेबसाइट या ब्लॉग की रैंकिंग को पूरी तरह से Boost कर देता हैं।

Internal Linking का सही उपयोग करने और structure बनाने का सबसे अच्छा तरीका हैं की एक ब्लॉग पोस्ट से संबंधित ब्लॉग पोस्ट से ही लिंक करे व ऐसे जगह Internal Linking करें जिस जगह यूजर को किसी और पोस्ट को Read करने की जरूरत हो. चाहे इसके लिए आपको एक नया ब्लॉग पोस्ट लिखने की जरूरत क्यों न पड़े।

इससे एक Structure Create हो जाएगा जो आपके ब्लॉग को Long-term धीरे धीरे रैंक करने मे बहुत सहायता करेगा।

7. Search console के insights keywords को ब्लॉग पोस्ट मे place कीजिए.

यह तरीका बहुत ही कम ब्लॉगर्स को पता होता हैं और जिन ब्लॉगर्स को यह तरीका पता होता हैं वह किसी के साथ साझा नहीं करते हैं क्योंकि इस तरीके की मदद से आप अपने ट्रैफिक को natural तरीके से बढ़ा सकते हैं और इससे हमें अपने साइट के रैंकिंग के बारे मे कॉफी कुछ पता चलता हैं. Google Search console मे आप अपने ब्लॉग को सबमिट करने के बाद कम से कम 50 Quality पोस्ट कीजिए।

उसके बाद आपको Google Search console मे जाना हैं और उसके बाद performance मे जाइए वहाँ पर आपको अपने ब्लॉग के Impressions, Clicks, CTR से संबंधित सारी जानकारी मिल जाएगा. वहाँ पर आपको Clicks, CTR, average position इन सभी चीजों को untick कीजिए और सिर्फ Impressions पर tick कीजिए।

फिर नीचे slide कीजिए वहाँ पर आपको Queries का ऑप्शन मिलेगा जिस मे आपको नीचे Top queries मे आपको बहुत सारे ऐसे keywords मिल जाएंगे।

जिनको आप जब गूगल मे सर्च करेंगे तो उसमे आपका ब्लॉग पोस्ट दिखाई देगा. उन Top queries के keywords जिस ब्लॉग पोस्ट से रिलटेड हैं उसे उस ब्लॉग पोस्ट मे natural तरीके से insert कीजिए. फिर उस Keyword को Bold कीजिए और अगर यह keyword ब्लॉग पोस्ट मे पहले से मौजूद हैं तो insert मत कीजिएगा। ऐसा करने से आपके ब्लॉग की रैंकिंग बढ़ जाएगी व सर्च रिजल्ट्स से ट्रैफिक भी बढ़ जाएगा।

8. ब्लॉग पोस्ट को हर महीने Update कीजिए.

यकीन नहीं करेंगे आप की अपने ब्लॉग के पोस्ट को update नहीं करते हैं तो इससे न ब्लॉग का सिर्फ ट्रैफिक कम होता हैं बल्कि ब्लॉग की रैंकिंग पर Overall बहुत बुरा प्रभाव पड़ता हैं. जिससे हमारा ब्लॉग लंबे समय तक नहीं चल पाता हैं।

इसीलिए हमें पुराने से पुराने ब्लॉग पोस्ट को भी update करना चाहिए. इससे आपके पुराने ब्लॉग पोस्ट भी धीरे धीरे रैंक करना शुरू हो जाएंगे।

जब हम अपने पोस्ट को update करते रहते हैं तो इससे गूगल की नजर मे हमारा ब्लॉग एक रोजाना updated रहने वाला ब्लॉग बन जाता हैं जिससे की धीरे धीरे ब्लॉग की रैंकिंग भी ऑटोमैटिक increase होते जाती हैं और जिससे एक authority बन जाती हैं ब्लॉग की जिससे जब भी कभी हम पोस्ट publish करेंगे तो इससे 1 महीने मे ही ब्लॉग पोस्ट रैंक करना शुरू हो जाता हैं।

इसीलिए अगर आप गूगल के फर्स्ट पेज मे ब्लॉग को रैंक करना चाहते हैं तो अपने ब्लॉग पोस्ट एवं ब्लॉग को हमेशा update करते रहिए।

9. Image Size को reduce कीजिए.

शुरुआती समय मे सही जानकारी नहीं होने की वजह से नए ब्लॉगर्स Image Size को reduce नहीं करते हैं जो की आने वाले समय मे आपके ब्लॉग पर कॉफी बुरा प्रभाव डालेगा और आपके ब्लॉग को पुररी तरह नीचे गिर देगा क्योंकि जब हम Image Size को reduce नहीं करते हैं तो इससे image का साइज बहुत अधिक होता हैं जिसकी वजह से हमारे ब्लॉग की Loading स्पीड हद से ज्यादा बढ़ जाएगी।

जिससे जब भी कोई नया यूजर आपकी साइट पर आएगा तो वेबसाइट खुलने मे कम से कम 30 सेकंड या 1 मिनट का समय लगेगा. जिससे यूजर पूरी तरह से irrited हो जाएगा इससे गूगल आपके ब्लॉग को कभी भी रैंक नहीं करेगा. क्योंकि आज के समय मे अगर आपका ब्लॉग open होने मे 10 सेकंड का भी समय लगाता हैं तो गूगल आपके ब्लॉग को कभी भी फर्स्ट पेज पर रैंक नहीं करेगा।

इसीलिए अगर आप अपने ब्लॉग मे इमेज का उपयोग कर रहे हैं तो उसका साइज़ 70KB से अधिक नहीं होना चाहिए. इमेज का साइज़ reduce करने के लिए image compressar फ्री टूल का उपयोग कर सकते हैं. यह टूल किसी भी इमेज के साइज़ को 70 प्रतिशत कम कर देता हैं।

10. Guest पोस्ट के माध्यम से Backlink बनाइये.

वाकई मे अगर हम सही तरीके से अपने ब्लॉग के लिए Backlink बनाते है तो इससे ब्लॉग की रैंकिंग 10 गुणा बाद जाती हैं लेकिन इसका मतलब यह नहीं हैं की ब्लॉग बनाते ही Backlink भी बनाना शुरू कर दे ऐसा करने से आपके ब्लॉग पर गूगल Penalty लगा देगा और फिर चाहे आप कितनी भी कोशिश कर ले आपका ब्लॉग रैंक कभी नहीं करेगा।

इसीलिए जब तक हमारा ब्लॉग 1 वर्ष पुराना नहीं होता हैं तब तक हमें Backlink नहीं बनाना चाहिए।

Rank करने के लिए Backlink इतना जरूरी नहीं हैं लेकिन अगर आप अपने ब्लॉग की Authority बढ़ाना चाहते हैं तो इससे लिए Backlink अवश्य बनाना चाहिए इसका मतलब यह नहीं हैं की किसी भी साइट और किसी भी तरीके से Backlink बनाना शुरू कर दे. Backlink बनाने का सबसे असरदार और Natural तरीका Guest पोस्ट हैं।

अगर आप Guest पोस्ट के माध्यम से 5 Backlink भी बनाते हैं तो इससे साइट की overall रैंकिंग बढ़ जाएगा. आपको यह बता दे की ब्लॉग को रैंक करने के लिए Backlink जरूरी नहीं हैं. रैंक करने के लिए Content मैने रखता हैं।

11. Meta descreption मे कीवर्ड का उपयोग कीजिए.

यूजर गूगल पर कोई कीवर्ड सर्च करता हैं तो गूगल सर्च रिजल्ट मे उससे संबंधित पोस्ट के Title के साथ उसका सर्च description यानि Meta description मे show होता हैं. ऐसे मे हमें अपने जो Title के मुख्य Focus कीवर्ड को अपने पोस्ट के meta description मे सही तरीके से place करना चाहिए इससे ब्लॉग पोस्ट जल्दी रैंक करता हैं एवं इससे ब्लॉग की रैंकिंग भी बढ़ती हैं।

क्योंकि इससे एक Structure create हो जाता हैं जो ब्लॉग को Longterm फायदा देता रहता हैं। इसीलिए मुख्य focus कीवर्ड को अपने ब्लॉग पोस्ट के Meta descreption मे डालना चाहिए।

12. Low comptition और High सर्च volume कीवर्ड चुनिये.

अभी भी गूगल मे ऐसे Low competition कीवर्ड मौजूद हैं जिनका जवाब गूगल पर उपलब्ध नहीं हैं. और जिन कीवर्डस् का सर्च volume लाखों मे हैं यानि जिन कीवर्ड को रोज लाखों लोग सर्च करते हैं ऐसे मे अगर हम उन Low competition कीवर्ड को ढूंढते हैं और उन पर ब्लॉग पोस्ट लिखते हैं तो उन कीवर्ड पर हमारा ब्लॉग पोस्ट रैंक करने के चांस 80 प्रतिशत बढ़ जाता हैं।

जिससे हमारे ब्लॉग को गूगल सर्च से Organic ट्रैफिक मिलेगा जो की ब्लॉग की authority को बढ़ने मे बेहद सहायक होते हैं इससे हमारे ब्लॉग की रैंकिंग कॉफी हद तक बढ़ जाएगा. इसीलिए जब आप एक नया ब्लॉग बनाते हैं तो शुरुआती समय मे ऐसे कीवर्डस् पर आर्टिकल (ब्लॉग पोस्ट) लिखे जिनका Competition कम हो और रैंक करने मे आसानी हो।

अगर आप Low comptition और High सर्च volume कीवर्ड ब्लॉग पोस्ट लिखते हैं तो इससे आपके ब्लॉग पोस्ट 24 घंटे मे ही रैंक करने लग जाएगा।

FAQ’s – blog ko google me rank kaise kare

ब्लॉग की रैंकिंग कैसे चेक करें?

वर्तमान मे ब्लॉग की रैंकिंग चेक करने के लिए अलग अलग फ्री और पैड टूल मौजूद हैं. अगर आप फ्री मे ब्लॉग की रैंकिंग चेक करना चाहते हैं तो Google search console, Moz इन टूल का उपयोग कीजिए और पैड टूल का इस्तेमाल करना चाहते हैं तो semrush, ahrufs का उपयोग कीजिए।

नए ब्लॉग को रैंक करने मे कितना समय लगता हैं?

नए ब्लॉग को रैंक करने मे कम से कम 3 महीने का समय अवश्य लगता हैं. और यह आपके hardwork और consistancy पर depend होता हैं।

क्या Blogspot ब्लॉग रैंक जल्दी करता हैं?

जी नहीं custom डोमेन के मुकाबले blogspot ब्लॉग रैंक करने मे बहुत ज्यादा समय लेता हैं।

निष्कर्ष

उम्मीद हैं की अप सभी लोगों को इस लेख की मदद से दी गई जानकारी ब्लॉग को गूगल पर रैंक कैसे करें? से आपने आज बहुत कुछ नया सिखा होगा और अगर आपके मन मे इंटरनेट से संबंधित कोई भी सवाल हैं तो आप नीचे कमेन्ट मे लिखकर पूछ सकते हैं। इस लेख को सोशल मीडिया जैसे Facebook, Linkdin, Twitter इत्यादि पर भी अवश्य साझा कीजिएगा और यह लेख कैसा लगा कमेन्ट मे लिखकर अवश्य बताएं।

1 thought on “वेबसाइट ब्लॉग को रैंक कैसे करें? Google के फर्स्ट पेज मे”

Leave a Comment